Hindi Sex Stories –

Hindi Sex Stories – मैं रमेश बनारस का रहने वाला हूँ आज तक बस Sex Story पढ़ के मुठ मार रहा हूँ लेकिन आज की Sex Story पढ़ के आप भी मुठ मरोगे क्युकी ये स्टोरी हवस से भरी हुई है तो जायदा समय न खराब करते हुए अपने बारे में बात करते है .

मैं एक जवान छोरा लोहे जैसा लंड लेके बैठा हूँ देश की बेरोजगारी की वजह से जॉब नहीं मिल रही बस Sex Story पढ़ पढ़ के समय बिताता हूँ .

लेकिन मेरे घर के ऊपर एक रूम पड़ा है तो मैंने सोचा उसको किराये पे उठा दूँ कुछ पैसे भी आएंगे और सायद कोई माल भी रहने आ जाय .

तो ये कहानी सुरु होती है मेरे घर से जहाँ मेरा ऊपर वाला कमरा किराये पर है बात 1 साल पहले की है मेरे घर पे एक नया जोड़ा रहने के लिए आया उनको मेरे घर पे एक रूम चाहिए था उन लोगो ने पापा से बात की सायद उन दोनों ने लव मैरिज करने के चक्कर में घर से भाग के सादी की थी खैर पापा ने उनको एक रूम दे दिया .

वो दोनों बहुत खुश थे मैं उस समय 19 साल का नया लड़का था मेरा लौड़ा दिन रात चूत के ख्याल देखा करता था अब इन लोगो के आने के बाद आज मैं मन ही मन खुश था लग रहा था की न चूत सही इन दोनों की चुदाई ही देखूंगा .

आज रात होने का इंतज़ार खाये जा रहा था मुझे खैर रात हुई मैं करीब 11 बजे छत वाले रूम में झाकने निकल गया तो मैंने देखा की वो दोनों एक दूसरे को चाट रहे थे मैंने देखा जिसे मैंने लड़की का बदन देखा मेरा लौंडा गन्ने ने तरह खड़ा हो गया .

मैंने देखा की अब वो दोनों एक दूसरे की चूत और लैंड चूसने में पड़े थे मेरा लड़कियों की गांड मरने का सपना था इसलिए मैं उसकी गांड देखे जा रहा था मोटी सी गांड छोटे छोटे दो चूतड़ बीच में प्यारा सा होल और उसकी गांड बीच बीच में उसका पति दबा रहा था उसकी गांड एक दम मलाई जैसी नरम लग रही थी .

ये सब पहली बार देख कर आप सब सोच नहीं सकते की मेरे अंदर क्या हो रहा था मेरा सरीर काँप रहा था मन कर रहा था की उनकी चुदाई में मैं घुस जाऊ और लड़की की गांड मार मार के हलवा कर दू .

मेरा मन हो रहा था की उसकी गांड को खा जाऊ खैर मैं तो अपना लौंडा निकल के मुठ मर रहा था और मुठ मरते मरते इतनी तेज़ी से अपने लंड को हिला दिया की मेरे मुँह से हलकी सी चीख निकल गयी और साथ में सारा लावा भी .

उस दिन मैं मस्त नींद में सोया लेकिन याद सिर्फ वही नरम सी गांड आ रही थी रात में 2 बजे उठ कर मैंने एक बार और मुठ मर दी खैर सुबह हुई लेकिन मुझे अगली रात का फिर इंतज़ार था वो दोनों दिन में चुदाई नहीं करते थे क्युकी मेरे घर के लोग छत पे टाइम बिताते थे .

उस दिन मैंने सोचा की इनसे कुछ बाते की जाये मैं गया और मैंने खा की भाभी जी किसी भी चीज़ की ज़रुरत पड़े आप मुझसे बोल देना आप यहाँ पर नए हो तो उसने ठीक बोल दिया हमने थोड़ी देर और बाते की करीब 4 / 5 दिन यही चला मैं रोज़ रात को मुठ मर के सो जाता था लेकिन मेरा कुछ नहीं हो पा रहा था .

फिर एक दिन मेरे दिमाक में आईडिया आया मैंने सोचा की क्यों न इन लोगो की वीडियो बनाई जाये फिर एक रात को मैं अपना phone लेकर चुपके से वीडियो शूट करने में लग गया वाह क्या मज़ा आ रहा था उन दोनों की वीडियो बनाने में.

और इस काम के लिए मैंने अपने दोस्त का फ़ोन मंगवाया था क्योंकी उसका कैमरा बहुत अच्छा था मैंने वीडियो इसलिए बनायीं क्यों की मुझे लग रहा था की यहाँ ऐसे लाइन मरने से अपनी दाल नहीं गलेगी .

उसने लड़की को आज पूरा नंगा कर दिया था और उसकी बॉडी पे मसाज कर रहा था बूब्स की चूची को जोर जोर से मसल रहा था उसकी मोती जांघो पर हाँथ फेर रहा था उसकी चूत में ढेर सारा तेल लगा के उंगलिया कर रहा था भाभी जी सिसकिया लिए जा रही थी .

मैं बहुत खुश था उन दोनों की वो वीडियो किसी Sex Story से काम नहीं थी . यह कहानी आप www.sexstoriesinhindi.in पर पढ़ रहे है .

आह सससस फ़क फ़क अब उसने भाभी जी को उल्टा किया और उनकी गांड पे तेल डाला और उनकी प्यारी सी गांड मसलने लगे ये सीन देख कर मेरा रहा नहीं जा रहा था मन कर रहा था की अभी घुस जाऊ और अपने लंड से भाभी की चूत का भोसड़ा बना दू .

लेकिन इतना सब देख कर मेरा लावा निकल चूका था और मैं थक कर सो गया था लेकिन मुझे अब कल का इंतज़ार था खैर कल हुआ मैं इंतज़ार कर रहा था की ये साला इसका पति बहार जाये और मैं भाभी को ब्लैकमेल करू चुदाई के लिए .

खैर भैया जी काम के लिए निकल लिए अब भाभी अकेले रूम पर थी मेरे लंड में वैसे भी आग लगी थी मैं सीधा रूम में घुस गया और मैंने बोलै की भाभी जी लव यू मैंने जबसे आपको देखा है मैं आपके लिए पागल हो चूका हूँ .

अब मेरे अंदर डर नहीं था मुझे पता था की वीडियो दिखा के तो चूत और मेरे सपनो की गांड तो मिलनी ही है .

तो वो थोड़ा डर सा गयी में आ गयी और मुझसे बोली की आप कैसी बाते कर रहे है तो मैंने उनसे कहा की मैं बस एक बार आप के साथ सेक्स करना चाहता हूँ तो वो गुस्सा हो गयी और मुझसे बोली निकल बाहर मैं डरने वाला कहाँ था .

खेला मैंने अपना phone निकला और वीडियो दिखा के कहा की अगर आप मेरी बात नहीं मानोगे तो कल मैं इसे इंटरनेट पे डाल दूंगा अब भाभी रोने लगी और बोलने लगी की प्लीज ऐसा मत करना मैंने बोलै की मुझे जो चाहिए वो दे दो

उसने कोई जवाब नहीं दिया मैं टूट पड़ा मैंने उनके लिप्स चूसना सुरु कर दिए और साथ साथ अपना लंड बाहर निकल कर उनके हांथो में पकड़ा दिया अब मैं जोश में था इसलिए मैंने भाभी की कपडे फाड़ दिए .

और उनके बूब्स झूलने लगे मैं उनके बूब्स चूसने में लग गया अब वो भी सिसकिया भर रही थी मैंने उनको गोद में उठाया और बीएड पर पटक दिया और उनकी गुलाबी पेंटी को उतार कर गीली चूत चाटने लगा .

उसकी चूत से एक मदहोश कर देने वाली खुशबू आ रही थी चाटते चाटते कब वो मेरे मुँह पर झाड़ गयी मुझे पता नहीं चला अब मेरे लंड का लावा निकलने वाला था .

और मैं उनकी जांघो पे झड़ गया मेरा लंड वापस तैयार हो तब तक मैंने भाभी की मलाई को चाटा उनकी गांड को खुद चाटा उसके चूतड़ों को अपने मुँह से काट काट कर घायल कर दिया .

10 मिनट के बाद मेरा लौंडा तैयार था मैं भाभी की चूत पे जुट गया भाभी जोर जोर से गांड उठा उठा कर मज़े लेने लगी .

अब उनको भी कोई ऐतराज़ नहीं था क्युकी मेरा लंड ऐसा था जो किसी को भी संतुस्ट कर दे

अब उसने मुझे गाली देते हुए कहा- आह साले भैनचोद … आराम से कर … अभी बहुत टाइम बाकी है … मादरचोद जान निकाल दी भोसड़ी के वो दर्द से ‘आह … उआह..’ करने लगी.

मैंने लंड को आगे पीछे करना शुरू कर दिया … साथ में मैं उसकी चूची दबा रहा था. इससे उसको राहत मिली और गांड उठा कर उसने मेरा साथ दिया.

अब मैंने भी थोड़ी स्पीड बढ़ा दी. उसकी चूत कुछ ही देर में बहुत सारा पानी छोड़ चुकी थी, जिससे लंड आराम से अन्दर बाहर हो रहा था.

पहली चुदाई 3-4 मिनट तक चली, फिर मैंने अपना सारा माल उसकी चुत में ही डाल दिया. हम दोनों मस्ती में निढाल पड़े रहे .

कुछ दो मिनट बाद वो मेरे लंड को सहलाने लगी थी और मुझे दूसरी पारी खेलने के लिए तैयार कर रही थी.

दो मिनट बाद मेरा लंड फिर से तैयार हो गया था. अब मैं नीचे लेटा था और भाभी जी मेरे ऊपर चढ़ी थी. 

अब उनको देख कर ऐसा नहीं लग रहा था की ये वही भाभी जी है जिनके लिए मैंने इतने पापड़ बेले अब वो सेक्सी कुतिया लग रही थी .

उसने लंड हाथ में पकड़ा और उसमें अपनी चूत फंसा कर लंड के ऊपर बैठ गयी. देखते ही देखते उसने पूरा लंड चुत में ले लिया और ऊपर कूदने लगी.

ठप ठप की आवाज से सारा रूम गूंज रहा था. उसकी चुत से पानी निकल रहा था. फिर मैंने कुछ देर बाद उसको घोड़ी बनाया और मैं उसके पीछे आ गया. मैंने उसकी चुत में लंड डाल दिया और फिर से चुदाई शुरू कर दी.


अब वो मस्ती से बोले जा रही थी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… जोर से करर न … जल्दी जल्दी कर … भैनचोद और तेज करर … फाड़ दे मेरी चुत को … आह … इसका भोसड़ा बना दे … और तेज चोद … मेरा होने वाला है … माँ के लौड़े थोड़ा दम्म लगा के मार.

मैं भाभी जी की चूत लेते लेते हैरान भी था मतलब क्या मस्ती से वो सेक्स कर रही थी मैंने ऐसा सोचा भी नहीं था अब मुझे ऐसा लगने लगा की इनके पतिदेव का हथियार में दम नहीं है .

तो मैंने उनसे सेक्स करते करते पूछ लिया मैंने बोलै भाभी भैया के लंड में दम नहीं है क्या तो वो सेक्सी अंदाज़ में जवाब देते हुए कहने लगी फुस्स है साला तू चूत मार बहनचोद .

आज मेरा Hindi Sex Stories पढ़ना सफल हो गया था .

और मैं उनकी चूत में ही झड़ गया हम दोनों इस चुदाई से खुश थे और आज के बाद हम दोनों को जब भी मौका मिलता दिन में चुदाई कर लेते थे .

Here you will find all kinds of hindi sex stories like HINDI SEX STORIES CHUDAI KI KAHANI INDIAN SEX STORY IN HINDI MAA KO MAA BANYA HOT SEX STORY GAY SEX STORIES IN HINDI .