मेरा पहला सेक्स अनुभव – Hindi Sex Stories –

Hindi Sex Stories हेलो दोस्तों कैसे है आप सब मेरा नाम किशना है और आज की जो सेक्स कहानी है वो कोई कहानी नहीं है वो एक सच है तो सुरु करते है मेरा पहला सेक्स अनुभव .

मैं एक सिंगल लड़का हुआ करता था प्रिया को मिलने से पहले और जब वो मेरे घर किसी पार्टी में आती थी तो वो मुझे कुछ छोटी भी लगती थी .

इसलिए मैंने उसपे कभी चांस नहीं मारा थी खैर मुझे क्या पता था की आगे चल कर हम दोनों का हवस का नंगा नाच होगा मैं एक ठीक ठाक दिखने वाला लड़का था और वो दूध जैसी गोरी मैं फिर से आप सब को बता रहा हूँ इस कहानी को कहानी मत समझो ये सच्ची कहानी है .


सावन का महीना था मैं ऑफिस में काम कर रहा था और मेरे घर पे रामायण थी इसलिए मुझे घर भी जाना था मैं घर जाने के लिए निकला और इस सावन मैंने भगवान् से बोल रखा था की मुझे एक साथी चाहिए .

और मैं ऑफिस से घर की तरफ निकल पड़ा घर पंहुचा तो घर वालो ने काम धंधे में फसा दिया और मैंने देखा की प्रिया भी आयी है मुझे थोड़ा बहुत अट्रेक्शन तो पहले से ही था उसपे लेकिन आज वो कमाल लग रही थी .

उसकी काली काली बड़ी बड़ी आखें उसका भरा हुआ सरीर उसकी गोल गोल गांड उसकी उठी हुई बूब्स की टुनटुनिया जिनको सायद आप सब बूब्स की घुंडी बोलते होंगे .

हलाकि मैं उससे बड़ा था इसलिए मैंने वो ख्याल अपने मन से निकला और बाकि काम देखने लगा थोड़ी देर बाद वो मेरे पास आती है और बोलती है क्या मैं आप की मदद कर दू मैंने थोड़ा सकपकाके बोलै हाँ .

आओ ये थाली तुम पकड़ लो उसने थाली लेते हुए मेरे हाँथ को अच्छे से टच किया मेरे सर्र करके पुरे बदन में बिजली दौड़ गयी .

और वो मेरे साथ काम करने लगी अब वह मेरे साथ जायदा टाइम गुजारने की कोसिस करने लगी थी यह सब मैं नोटिस कर रहा था और मुझे हल्का हल्का आभास होने लगा की वो मुझे पसंद करती है .

खैर रामनयन रात को पहुंची हम दोनों बैठे हुए थे हम दोनों क्या सभी बैठे हुए थे और ठंढ का समय था इसलिए कम्बल के अंदर सबने अपने अपने पैर कर रखे थे तभी मुझे लगा की कोई मेरे पैर पर अपना पैर रगड़ रहा है .

मेरा लंड तन के खड़ा हो गया मैंने देखा तो पता चला की वो प्रिया है खैर मैंने थोड़ा कंट्रोल किया और सोचा की आज इसको अपना फ़ोन नंबर दे देता हूँ .

इसके घर जाने से पहले तो मैं अंदर जाकर एक पेपर पर अपना नंबर लिख के लाता हूँ और इसको अपना नंबर दे देता हूँ खैर काफी हिम्मत करके मैंने उसको अपना नंबर दिया इसके बाद उसका Massage आता है .

जब वो अपने घर चली जाती है तब उसका Massage आता हमारी बात चीत चलने लगती है और हम एक ठीक ठाक लेवल पर पहुंच चुके थे .

जहाँ से हम एक दूसरे को लव यू बोल सकते थे चैटिंग करते करते कुछ दिन बीत गए और अब मैंने उसे अपने दिल की बात की की मुझे तुम पसंद हो आई लव यू तो उसने बोला की आप मुझे बहुत दिनों से पसंद हो .

लेकिन मैंने सोचा था की सुरुवात आप ही करोगे लेकिन वो तो मुझे करनी पड़ी थी
मैंने उससे बोला की कोई बात नहीं किसी को तो करनी थी सुरुवात खैर हम दोनों की लव स्टोरी चल निकली .

और एक दिन उसने मुझे प्यार का सबूत माँगा उसके बोला की क्या तुम रात के 12 बजे मेरे घर के बहार आकर अपने नाम का पहला अक्षर और मेरे नाम का पहला अक्षर लिख सकते हो मेरे भी दिमाक पर जवानी का भूत सवार था .

More Hindi Sex Stories : भाभी को जम के चोदा – Hindi Sex Stories

तो किसी दूसरे भूत से कया खाख डरता मैं एक डंडा लेकर निकल गया और रात के करीब १ बजे उसके घर के बहार सफ़ेद दीवाल पर दोनों का नाम लिखा और उसको लिख के सेंड किया की कर दिया मैंने अब बाहर आओ और उसके बोला आती हूँ .

वो बाहर आयी और मेरे गले से लग गयी ज़िन्दगी में कोई पहली लड़की मेरे गले से लगी थी मैं बहुत खुश था फिर उसने अपने लिप्स मेरी तरफ बढ़ाये मैंने उसके लिप्स को अपने लिप्स से चूसने लगा पुच्छ पुचक की हलकी हलकी आवाज़ हमारे मुँह से निकल रही थी .

वो मेरे जीवन की पहली किश थी फिर वो घर भाग गयी और मैं अपने घर की तरफ निकल पड़ा
अब हमारे बीच थोड़ी सेक्सी बाते होने लगी क्युकी दोनों तरफ आग लग चुकी थी हम दोनों सेक्स की आग में जल रहे थे .

मेरा हमेसा से मन था की मैं जब अपना पहला सेक्स करू तो वो बिना कपड़ो के आराम से सिद्दत से होना चाहिए जल्दी बाज़ी में मुझे सेक्स करने का कोई सौक नहीं था .


मैंने उससे बोल रखा था की तुम तभी मुझे बुलाना जब आराम से टाइम हो और घर पे कोई न हो मैंने अपने लंड की सेवा सुरु कर दी थी तरह तरह की स्प्रे लंड पे डालने लगा था क्युकी चूत के सपने सच होने वाले थे .


हम दोनों के बीच अब सेक्स चैट होती रहती थी और दोनों हवस की आग में जल रहे थे फिर आया वो दिन जब उसने मुझे कॉल की और बोलै की आज मम्मी पापा मम्मी की दवाई लेने जा रहे है और उसका छोटा भाई स्कूल जाता था .

उसने मुझसे कहा की आज मैं आ जाऊ हम दोनों मस्ती करेंगे ये सब सुनते ही मेरा लंड खड़ा हो गया और मैं बस चुदाई के सपने देखने लगा उसी दिन मैं अपने ऑफिस से से सीधा उसके घर गया।

फिर मैंने डोर बेल बजायी। फिर जब उसने दरवजा खोल मैं हक्का बक्का होकर उसे देखने लगा। वो पिंक कलर की टॉप और ब्लैक कलर की बहुत ही छोटी सी स्कर्ट पहनी खड़ी थी।


उसने मुझे अंदर खीच लिया और दरवाजा बंद कर लिया। मैं अंदर जाकर सोफे पर बैठ गया।
उसने मुझे कॉफ़ी के लिए पूछा तो मैंने हाँ कर दी।

जब वो कॉफ़ी बना रही थी तो मैंने उसके पीछे से जाकर उसे पकड़ लिया और उसकी गर्दन चूमने लगा। वो इस अचानक हुई हरकत से एकदम घबरा गई पर फिर बाद में नार्मल हो गयी और अपने हाथ ऊपर करके मेरा मुंह अपनी गर्दन पर दबाने लगी।

शायद वो नहाई नहीं थी क्योंकि उसके बदन से उसके नेचुरल सेंट की भीनी भीनी खुशबू आ रही थी। मैं उसे ऐसे ही चूमता रहा।


तभी कॉफ़ी बन चुकी थी तो उसने एक कप लिया और उसने अपना सिप लिया और हम सोफे पर बैठ गए। मैंने उसे अपने कप से कॉफ़ी पिलाई। हम अपनी अपनी कॉफ़ी खत्म करके टीवी देखने लगे।


फिर उसने अपना हाथ मेरे जांघ पर रख दिया और मेरी तरफ कातिलाना अंदाज़ से देखने लगी। मैं उसके आँखों का इशारा समझ गया और उसे अपने पास खींच कर किस करने लगा।

वो मेरे बगल में बैठी थी पर किस करते करते वो मेरी गोद में आकर बैठ गयी। उसने किस करते हुए मेरी शर्ट उतार दी। फिर वो मेरी छाती को चूमने लगी। मेरी चेस्ट जिम जाने की वजह से बहुत बड़ी है। उसने मेरे निप्पल को मुंह में लेकर भी चूसा।


फिर मैंने उसके टॉप के अंदर अपना हाथ डाल दिया और उसके बूब्स को दबाने लगा। वो भी मेरे बदन को चूमे जा रही थी।

फिर मैंने अपना हाथ उसके टॉप से निकल कर उसकी छोटी से स्कर्ट में डाल दिया। उसकी स्कर्ट घुटनों से बस थोड़ी ऊपर थी। उसने अंदर पैंटी पहन रखी थी।

मैंने जब उसकी चुत को छुआ तो मुझे उसकी चुत की गर्मी को देखकर तो मैं शॉक हो गया। उसकी चुत किसी भट्टी की तरह गर्म थी और उसमें से पानी निकाल रहा था।


मैं समझ चुका था कि अब वह बहुत गर्म हो चुकी है और कभी भी झड़ सकती है।
मैंने उसे उठाया और बैडरूम में लेजाकर पटक दिया और उसके होंठों पर किस करने लगा।

फिर मैंने उसकी टॉप और स्कर्ट निकाल दी जिससे वो अब मेरे सामने अपनी स्लिप और पैंटी में थी।
मैं अब उसके बदन को चूसने चूमने लगा। मैंने उसे नैक किसिंग किया और फिर उसके बूब्स को स्लिप के ऊपर से ही चूसने लगा।


फिर मैं नीचे आया और उसकी स्लिप थोड़ी उचका कर उसके पेट को चूसने लगा। वो सिसकारियाँ भरती जा रही थी और मेरा सिर अपने पेट पर दबा रही थी। फिर मैंने उसकी नाभि को चूमा तो वो एकदम से सिहर उठी।

ऐसे ही चूसते चूसते मैं उसके पैरों तक आ गया और उसकी जांघों को चूसने लगा, उसकी गोरी और मोटी गोल जांघों को चूसने लगा। उसकी गुलाबी रंग की पैंटी में उसकी चुत एकदम ठीक से नजर आ रही थी।


फिर मैंने उसे पलट दिया और उसी तरह से उसे पीछे से भी चूमा। फिर मैंने उसकी स्लिप निकाल कर फेंक दी और उसकी नंगी पीठ को चाटने लगा।

उसी तरह से मैंने उसकी पैंटी उतारी और उस पर लगे उसके चुत के पानी को चाटकर उसकी पैंटी फेंक दी।
अब वो मेरे सामने पूरी नंगी थी।

More Hindi Sex Stories : जीजू ने मेरी चूत की चटनी बनाई – Hindi Sex Stories

मैं फिर उसकी गांड के गाल चाटते हुए धीर धीरे उसकी गांड के छेद के पास गया और उसकी गांड के छेद को चाटने लगा। अब वो बहुत कामुक होकर सिसकारियाँ भर रही थी।

फिर मैंने उसे वापस सीधा किया तो वो अपनी चुत और अपने बूब्स को ढकने की कोशिश करने लगी।
जब मैंने उसे पूछा तो बोली- मैं तो पूरी नंगी हूँ पर तुमने अभी भी पैंट पहनी है।
फिर मैंने उससे ही अपनी पैंट उतारने को कहा।


उसने मेरी पैंट और अंडरवियर दोनो उतार दिए। अब हम दोनों पूरे नंगे थे। मैं उस पर टूट पड़ा और उसके बूब्स को मुंह में लेकर चूसने लगा।

वो भी मजे ले रही थी। फिर मैं नीचे गया और उसकी चुत के लबों पर हल्का सा किस किया। इस हरकत से वो सिहर उठी और जोर से सिसकी भर ली।


उसकी चुत एकदम चिकनी थी पर बहुत
छोटे छोटे बाल थे। शायद उसने दो दिन पहले अपनी चुत शेव की थी।
फिर मैं उसकी चुत पर टूट पड़ा।

मैं उसकी चुत में अंदर तक जीभ डाल रहा था और वो मज़े ले रही थी। फिर मैंने अपनी एक उंगली से उसकी क्लिट को सहलाया और अपनी जीभ से उसकी चुत चूसता रहा।
अब अंजलि बोली- मुझे अब तुम्हारा लंड चूसना है।


तो हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गए और एक दूसरे के जननांगों को चूसने लगे। वो मेरा 6.5 इंच लंबा लंड बहुत मज़े से चूस रही थी।


5 मिनट बाद वो अचानक से सिकुड़ गयी और मेरे मुंह में ही झड़ गयी। उसकी चूत का पानी इतना मस्त और मीठा थी कि मैं सब पी गया और उसकी चुत चाटकर साफ कर दी। पर मेरा तो अभी बाकी था।


फिर उसने मुझे बेड पर लिटा दिया और मेरे ऊपर आकर मेरे लंड को चूसने लगी। उसके चूसने से मुझे बहुत मज़ा आ रहा था। फिर मैंने उसके बाल पकड़े और जोर से उसका मुंह चोदने लगा।

फिर 7-8 मिनट बाद मैं भी उसके मुंह में झड़ गया। वो भी मेरा सारा माल पी गयी और मेरा लंड चाट कर साफ कर दिया।


फिर हम दोनों ऐसे ही बेड पर लेटे रहे और और तब अंजलि मेरा लंड हाथ में लेकर खेल रही थी और मैं उसके बूब्स को चूस रहा था और उसकी चुत को रगड़ रहा था। फिर हम दोनों ही एक बार और जोश में आ गए, मेरा लंड फिर से तन गया था।


अब हम दोनों एक दूसरे को किस करने लगे। अब वो नीचे फर्श पर घुटनों के बल बैठ गयी और मेरा लंड चूसने लगी। फिर मैंने उसे उठाया और बेड पर लिटा दिया। मैंने उससे पूछा कि क्या उसकी सील अभी भी पैक है .


तो उसने बताया कि वो अक्सर अपनी चुत में गाजर मूली वगैरह डालती रहती थी जिससे उसकी सील पहले ही फट चुकी थी।
फिर मैंने अपना लंड उसकी चुत पर सेट किया और जोर का धक्का दिया जिससे एक ही झटके में मेरा पूरा लंड अंदर घुस गया।

उसके मुंह से हल्की सी चीख निकल गयी। फिर मैं उसे ऐसे ही 5 मिनट तक चोदता रहा
फिर वो बेड पर से उतर गयी और मैं उसके पीछे खड़ा हो गया और उसे झुका दिया और फिर से उसकी चुत मैं पीछे से लंड डालकर उसे चोदता रहा

मैं उसकी गर्दन को चूम रहा था और उसके बूब्स को पकड़ कर लगातार धक्के मारता रहा जिससे 20 मिनट बाद मैं झड़ने वाला था तो मैंने उसे बोल दिया।


वो झट से मेरे सामने बैठ गयी और मेरा लंड आगे पीछे करने लगी।
मैंने अपने वीर्य की धार उसके बूब्स पर मार दी और थोड़ा वीर्य उसके मुंह में भी चल गया। उसने सारा वीर्य उंगली से ले कर चाट लिया।


अब उसकी आँखों में संतुष्टि की भावना साफ नजर आ रही थी।

फिर हम दोनों बाथरूम में गए और वहाँ पर भी मैंने उसकी एक बार शावर के नीचे चुदाई की।

अब 12:30 बज रहे थे। फिर मैंने अपने कपड़े पहने और उसने मुझे किस के साथ विदा किया
तो दोस्तों ये थी हमारे सेक्स की कहानी इसके बाद हमने अक्सर सेक्स किया .

Best Hindi Sex Stories Only On sexstoriesinhindi.in .